Ghazel Ke Bahane, Desh Ke Tarane

Just another Jagranjunction Blogs weblog

24 Posts

5 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 23144 postid : 1313774

फगुआ कांधा

Posted On 11 Feb, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

खेलैं कन्हइया होली बिरिज में खेलैं कन्हइया होली ||
रंग गुलाल हथवा पिचकारी -२
संगवा में ग्वालन क टोली बिरिज में ||
एक-दूजे पे मोरै पिचकारी -२
पोतै अबीर दिल खोली बिरिज में ||
होली क हुरदंग बहुतय सुहावन -२
घूमैं ल सब कोली कोली बिरिज में ||
गोपिया भी आइन मोरै पिचकारी -२
भीगेला लहँगा चोली बिरिज में ||
अजबय लुभावन लीलाधर क लीला -२
विहसे सब प्रेम रस धोली बिरिज में ||
“मधुकर” मधुमास बहे फगुआ बयरिया -2
करै ढिढ़ोली हमजोली बिरिज में ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran