Ghazel Ke Bahane, Desh Ke Tarane

Just another Jagranjunction Blogs weblog

24 Posts

5 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 23144 postid : 1242599

-:गणेश वन्दना:-

Posted On 4 Sep, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज का दिन है पावन सलोना मोर सा मन मगन झूमता है |
दिगदिगन्तों में उसकी ख़ुशी में, ए धरा क्या गगन झूमता है ||
वक्रतुंड महाकाय राजे, गणपति गोंद गौर विराजे |
उनकी मनहर मनोहर मूरतिया देख दिन का चमन झूमता है |
भीर भक्तों की पल में निहाते, विघ्नहर मंगलकारी कहते |
आज भक्तों के मानस पटल पे, गजबदन का नयन झूमता है ||
ऋद्धि-सिद्धि के प्राण पियारे, शंभू शंकर शिव के दुलारे |
स्नेह श्रद्धा में सादर समर्पित, सबके हिय का सुमन झूमता है ||
एक दन्त दयावन्त न्यारा, लम्बोदर रूप मिसिरा को प्यारा |
पीट पट सोहत क्या सुहावन, “मधुकर” मन रतन झूमता है ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran