Ghazel Ke Bahane, Desh Ke Tarane

Just another Jagranjunction Blogs weblog

24 Posts

5 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 23144 postid : 1241903

-:गणेश बन्दना:-

Posted On: 4 Sep, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

शैर:- गजबदन गणपति गौरिसुत,देवो में सवसे न्यारे है|
गजानन गणेश लम्बोदर,भक्ति के दिल के प्यारे है||
गिरिराज पे राजत शंभु गोंद,जननी के परम दुलारे |
गुरु मातु पिता अज्ञाकारी,पूजा के आगरा सितारे है,

गजल:- गणपति वक्र-तुण्ड गजानन, सारी दुनियां में छाये हुए है, |
विद्या वारिधि बुद्धि विधाता,अपने भक्तो को भाये हुए है ||
एक दन्त लम्बोदर विनायक,तेरी महिमा अजब है निराली |
रिद्धि-सिद्धि के दाता हो भगवान, विध्नहर्ता कहाय हुए है |
आप कहलाते करुणा के सागर,भर देते है भक्तो के सागर ||
बस इसी आसरा से यहाँ पर,हम भी झोली फैलाये हुए है |
अम्बे नन्दन हेरम्ब गजानन,द्धार पर जो तुम्हारे है आया ||
करते पूरी मुरादे सभी की,आसरा सब लगाए हुए है |
एक दन्त महाकाय राजे,शरण आये है मिसिरा तिवारी |
चाहते है चरण धूल “मधुकर” अपना मस्तक झुकाये हुए है ||

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran